Saturday 10 April 2021 05:13 PM IST : By Nisha Sinha

वेब सीरीज के कंटेंट में आया कंगाली का दौर

वुमन्स डे पर ज़ी5 ओरिजनल और ऑल्ट बालाजी की वेब सीरीज द मैरिड वुमन रिलीज हुई। शो की कहानी शादीशुदा महिला आस्था की जिंदगी पर है। अच्छी मैरिड लाइफ के लिए फैमिली और सोसाइटी के सभी एलीमेंट्स होने के बावजूद आस्था यानी एक्ट्रेस रिद्धि डोगरा की जिंदगी में सूनापन है। उसका यह एकाकीपन कहानी के दूसरे मुख्य पात्र पीपलिका खान यानी मोनिका डोगरा से मिलने के बाद भरना शुरू होता है। इसके लिए दोनों तन-मन से एक-दूसरे के करीब आते हैं। आम दर्शक की भाषा में कहें, तो इसकी कहानी में भी कहीं ना कहीं लेस्बियन रिलेशनशिप छिपी है।

web-april-1
मिसेज सीरियल किलर, द मैरिड वुमन- दोनाें के रिव्यू भी खराब रहे।

ऑल्ट बालाजी को तो जैसे हर स्टोरी में इंटीमेट सीन के लिए मौके की तलाश होती है। दूसरे ओटीटी प्लेटफॉर्म्स पर भी कंटेंट ऐसे ही मसाले से भरा जाता है। फिल्ममेकर विक्रम भट्ट की वेब सीरीज में भी सेम सेक्स के बीच के प्यार को हाईलाइट किया गया। माया 2 में प्रियल गोर और लीना जुमानी के किसिंग सीन को तब काफी बोल्ड माना गया। इसे विक्रम भट्ट की बेटी कृष्णा भट्ट ने निर्देशित किया। ऑल्ट बालाजी की ही गंदी बात 2 में भी फ्लोरा सैनी और अन्वेशी जैन के बीच लेस्बियन लव मेकिंग सीन दिखाया गया। इसके दृश्य बेहद बोल्ड थे। टि्वस्टेड में निया शर्मा और इशा शर्मा के बीच यही हुआ। द अदर लव स्टोरी, लव लाइफ एंड स्क्रू अप्स इसी में शामिल है। लेस्बियन ही क्यों, गे रिलेशनशिप का भी यही हाल है। मौका देख कर फिल्ममेकर किसी भी जॉनर के शो में रिश्ते की जटिलता को दिखाने के लिए इंटीमेट सीन्स डाल देते हैं, जबकि कहानी के नाम पर सन्नाटा पसरा होता है। ऐसा नहीं है कि लोग इसे देखते नहीं, लेकिन सब्जेक्ट के नाम पर कुछ नहीं होने के कारण ये शोज जल्दी ही दिमाग से ओझल हो जाते हैं।

web-april-3
शायद यही वजह है कि अब कई प्लेटफॉर्म अच्छे कंटेंटवाले 90 के दशकों के शोज और पुरानी फिल्मों को ओटीटी पर देने लगे हैं। सुपरस्टार शाहरुख खान का सीरियल फौजी इसी का उदाहरण है। वहीं हेलो मिनी-2 में भी कुछ नया नहीं है।

शायद यही वजह है कि अब कई प्लेटफॉर्म अच्छे कंटेंटवाले 90 के दशकों के शोज और पुरानी फिल्मों को ओटीटी पर देने लगे हैं। सुपरस्टार शाहरुख खान का सीरियल फौजी इसी का उदाहरण है। इसलिए हर जॉनर की फिल्में आज अलग-अलग ओटीटी प्लेटफॉर्म पर मौजूद हैं। ऐसे में प्रभावी विषय वस्तु के लिए फिल्मों से उम्मीद जतायी जा सकती है। 

web-april-4
नेटफ्लिक्स की बॉम्बे बेगम्स

अजय देवगन की भुज, अभिषेक बच्चन की द बिग बुल, सारा अली की अतरंगी रे, आलिया भट्ट की गंगूबाई काठियावाड़ी से उम्मीद है कि शायद कुछ अच्छे और मनोरंजक प्लॉट से दर्शकों को रूबरू होने का मौका मिले। इन फिल्मों की स्थिति देख कर ऐसा लगता है कि अगर डिजिटल मीडिया के कंटेंट में नयापन नहीं लाया गया, तो हिंदुस्तान में अच्छे कंटेंट के लिए दूसरे देशों के टेलीविजन प्रोग्राम और शोज के चहेते बढ़ते चले जाएंगे। लेखक जाॅर्ज आरआर मार्टिन की टीवी सीरीज गेम ऑफ थ्रोन्स इसी का उदाहरण है। इसके अलावा पाकिस्तान में तैयार उर्दू शोज भी अच्छे कंटेंट की वजह से भारत में पसंद किए जा रहे हैं। यही हाल टर्की के शोज का है। इसमें हिंदी में डब किए गए कई प्रोग्राम डिजिटल प्लेटफॉर्म पर भी मौजूद हैं। 2014 में जिंदगी चैनल के लॉन्च होते ही दर्शक पाकिस्तान और टर्की की डब टीवी सीरीज में डूब गया था। पाकिस्तानी सीरियल जिंदगी गुलजार है, हमसफर और टर्की के फेरिहा और फातमागुल भारतीय दर्शकों के दिल पर छा गए। हिंदुस्तानी दर्शकों को मध्यमवर्गीय प्लॉट पर तैयार खुद से जुड़ी कहानियों की यह मीनार बहुत आकर्षक लगी। नतीजा यह हुआ कि इंडियन वेब कंटेंट से कटनेवाले दर्शकों का वर्ग अब दोबारा ऐसे शोज को डिजिटल प्लेटफॉर्म पर देखने लगा है। रोचक कंटेंट की तलाश करनेवालों को तो सब टाइटल्स वाले कोरियन और चाइनीज ड्रामा देखने में भी खूब मजा आ रहा है। पकाऊ इंडियन शो की तुलना में विदेशी सीरियल या शोज ज्यादा रास आने लगे हैं। ऐसे में एमएक्स ओरिजनल की हेलो मिनी 2 और नेटफ्लिक्स की बॉम्बे बेगम्स का क्या होगा, आप समझ गए होंगे।

शायद कंटेंट अच्छा हो

कुछ अच्छे कलाकार जब भी कोई शो ले कर आते हैं, तो यह उम्मीद की जाती है कि उसकी कहानी थोड़ी हट कर होगी। एक्टर पीयूष मिश्रा और रवि किशन की मत्स्याकांड से भी फैन्स को यही उम्मीद है। सीमा विश्वास का नाम भी गंभीर कलाकार के रूप में लिया जाता है। जल्दी ही वे वेब शो ह्यूमन में दिखेंगी। सीमा विश्वास की तरह शेफाली छाया भी दिल्ली क्राइम से वेब की जान बन चुकी हैं। वे डार्लिंग्स, दिल्ली क्राइम 2 और ह्यूमन में भी काम कर रही हैं। विपुल शाह, सीमा विश्वास, शेफाली शाह, पीयूष मिश्रा से यह उम्मीद की जा सकती है कि इनके शोज का कंटेंट पावरफुल होगा।

web-april-2
रवि किशन की आनेवाली वेब सीरीज मत्स्यकांड

बाहुबली मूवी से पैन इंडिया स्टार बन चुके प्रभाष की राधेश्याम 30 जुलाई, 2021 को सिनेमाघरों में रिलीज होगी, यह भी चर्चा है। यह हिंदी के अलावा तुलुगू, तमिल, कन्नड़ और मलयालम भाषा में है।

अभी कुछ दिन पहले पंचायत वेब सीरीज आयी थी। इसे दर्शकों ने खूब पसंद किया। इस कॉमेडी ड्रामा को वायरल फीवर ने अमेजन प्राइम वीडियो के लिए बनाया था। इसमें नीना गुप्ता, रघुबीर यादव जैसे मैच्योर एक्टर्स के साथ-साथ जितेंद्र कुमार और चंदन राय जैसे कलाकारों ने भी असरदार काम किया। यह सीरीज मध्य प्रदेश के वास्तविक पंचायत कार्यालय में फिल्मायी गयी। गांव की पृष्ठभमि पर बनी 8 एपिसोड की इस सीरीज की क्रिटिक्स ने खूब तारीफ की। फिल्मफेअर ओटीटी अवार्ड्स के उद्घाटन समारोह में इसे कॉमेडी सीरीज कैटेगरी के हर नॉमिनेशन (बेस्ट एक्ट्रेस को छोड़ कर) में शामिल किया गया। इसकी लोकप्रियता ने साबित किया कि बेस्ट से ऊपर कुछ नहीं होता। ग्लैमर से मीलों दूर, बिना सेक्स सीन्स दिखाए, आलीशन बंगले के बजाय ग्रामीण पृष्ठभूमि में शूट किया गया यह वेब शो एवरग्रीन है। कुछ सीखें और पुरानी गलतियों को फिर से दोहराने से बचें।